गुंडों की दहशत खत्म करने हेतु पिंपरी चिंचवड पुलिस का ‘वाकड़ पैटर्न’

 
गुंडों की दहशत खत्म करने हेतु पिंपरी चिंचवड पुलिस का ‘वाकड़ पैटर्न’
पिंपरी। संवाददाता: शातिर बदमाशों की दहशत खत्म करने के पिंपरी चिंचवड की वाकड़ पुलिस ने ‘सिंघमगिरी’ करते हुए अपना अलग ‘वाकड़ पैटर्न’ स्थापित किया है। इसके तहत बुधवार को जिस इलाके में गुंडों की दहशत है उसी इलाके में उनका जुलूस निकाला गया। गुंडों की दहशत खत्म करने के लिए वाकड़ पुलिस की डिटेक्शन ब्रान्च (डीबी) के इस अलग पैटर्न की स्थानीय नागरिकों द्वारा खूब सराहना की जा रही है।
वाकड़ पुलिस की डीबी के मुखिया सहायक पुलिस निरीक्षक हरीश माने ने बताया कि, वाकड़ के काला खड़क इलाके में अरविंद गौरवसाठी (20), सूरज पंडित पवार (21), राहुल उर्फ बुग्या हिरामन लष्करे (19) और विशाल शहाजी कसबे (23, सभी निवासी काला खडक, वाकड, पुणे) नामक शातिर बदमाश दहशत मचाये हुए थे। इनमें से विशाल कसबे तडीपार गुंडा है। इसके बावजूद उनकी आपराधिक गतिविधियां कम नहीं हो रही थी।
दो दिन पहले मल्लारी मोतीराम लोंढे ने अपनी दुकान किराए से नहीं दी इसलिए उन्हें अगवा कर उनसे मारपीट की गई। इस बारे में वाकड़ थाने में मामला दर्ज करने के बाद तड़ीपार बदमाश विशाल कसबे समेत उक्त चारों बदमाशों को गिरफ्तार किया गया। उनकी दहशत खत्म करने के लिहाज से आज सुबह उन्हें लेकर पुलिस टीम काला खड़क इलाके में पहुंची। पूरे बाजार और इलाके में पुलिस ने उन्हें हथकड़ी पहनाकर पैदल घुमाया।
जिस इलाके में इन गुंडों की दहशत है उसी इलाके में उन्हें इस तरह से घुमाए जाने से स्थानीय लोगों की भारी भीड़ इकट्ठा हो गई। कई लोगों ने गुंडों के इस तरह से निकाले गए जुलूस को अपने मोबाइल फोन के कैमरे में कैद कर लिया। दिनभर इसकी फ़ोटो और वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होते रहे। पुलिस के इस कदम से लोगों ने संतोष जताया है। गुंडों के खिलाफ इसी तरह से कड़े कदम उठाए गए तब उनमें पुलिस और कानून का डर बना रहेगा और वे अपराध करने से पहले सौ बार सोचेंगे, यह प्रतिक्रिया लोगों में देखी और सुनी गई।

वेब से