‘पीरियड्स’ चेक करने के लिए प्रिंसिपल ने उतरवाए लड़कियों के ‘अंडरवियर’

 
‘पीरियड्स’ चेक करने के लिए प्रिंसिपल ने उतरवाए लड़कियों के ‘अंडरवियर’

भुज: समाचार ऑनलाइन – समाज को शर्मसार करने वाली एक खबर गुजरात के भुज से सामने आई है। जहां श्री सहजानंद कॉलेज के प्रिंसिपल द्वारा 68 लड़कियों की अंडरवियर उतरवाकर इस बात की जांच कराई कि वे मासिक धर्म (पीरियड्स) से गुजर रही हैं या नहीं। यह मामला सामने आते ही हर तरह बवाल मंच गया है। जानकारी के मुताबिक, ये खबर गुजरात के एक स्थानीय मीडिया संस्थान में प्रकाशित होने के बाद सामने आई।

 

पीरियड्स के दौरान किसी भी अन्य छात्र या छात्रा से हाथ मिलाने या गले मिलने की भी अनुमति नहीं है –

रिपोर्ट के अनुसार लड़कियों को कॉलेज में पीरियड्स के दौरान किसी भी अन्य छात्र या छात्रा से हाथ मिलाने या गले मिलने की भी अनुमति नहीं है। इसके अलावा यह भी आदेश जारी किया गया है कि पास स्थित मंदिर में पीरियड्स से गुजर रही लड़कियां न जाएं। मंदिर के बाहर भी बोर्ड लगाकर इस बात की सूचना दी जा रही है। इतना ही नहीं लड़कियों को कॉलेज और मंदिर के रसोई से भी दूर रहने को कहा गया है।

स्वामीनारायण मंदिर के भक्तों द्वारा चलाया जाता है श्री सहजानंद कॉलेज –

श्री सहजानंद कॉलेज को स्वामीनारायण मंदिर के भक्त लोग मिलकर चलाते हैं। इस कॉलेज के प्रिंसिपल ने कहा कि हमें शिकायत मिली थी कि पीरियड्स से गुजर रही लड़कियां कॉलेज में लोगों से हाथ मिला रही हैं। मंदिर और किचन में जा रही हैं। जिसके बाद प्रिंसिपल ने इसे रोकने के लिए कॉलेज के स्टाफ के साथ मिलकर 68 लड़कियों के अंडरवियर उतरवाकर इस बात की जांच कराई की।

‘पीरियड्स’ चेक करने के लिए प्रिंसिपल ने उतरवाए लड़कियों के ‘अंडरवियर’

वॉशरूम में ले जाकर उतरवाए कड़पे –

जानकारी के मुताबिक, कॉलेज स्टाफ लड़कियों को पहले वॉशरूम में ले गए फिर वहां उनके कपड़े उतरवाकर इसकी जांच कराई गई। एक लड़की ने स्थानीय मीडिया को बताया कि इस तरह की ज्यादती अक्सर इस कॉलेज में होती है।

पुलिस को न बताने के लिए दी जाती है धमकी –

एक लड़की की शिकायत के मुताबिक, इस घटना के बारे में हमारे माता-पिता को भावनात्मक रूप ब्लैकमेल किया जा रहा है। उनसे कॉलेज और मंदिर ट्रस्ट की तरफ से कहा जा रहा है कि इस बारे में पुलिस को न बताएं।

‘पीरियड्स’ चेक करने के लिए प्रिंसिपल ने उतरवाए लड़कियों के ‘अंडरवियर’

जांच कराकर मामले की कड़ी कार्रवाई करने की कही गयी गई बात –

जब इस बारे में स्थानीय मीडिया ने कॉलेज और मंदिर की महिला ट्रस्टी और प्रिंसिपल से बात करनी चाही तो वो लोग उपलब्ध नहीं हुए हालांकि दो ट्रस्टियों ने इस बात की जांच कराकर मामले में कड़ी कार्रवाई करने की बात कही है।

वेब से