सोनिया गांधी, शरद पवार माफी मांगे, हिंदू विरोधी बयान को लेकर भाजपा आक्रामक

 
सोनिया गांधी, शरद पवार माफी मांगे, हिंदू विरोधी बयान को लेकर भाजपा आक्रामक

नई दिल्ली, 21 जनवरी : कांग्रेस नेता अशोक चव्हाण और राष्ट्रवादी कांग्रेस नेता जीतेंद्र आव्हाड़ द्वारा दिए गए बयान को लेकर भाजपा आक्रामक हो गई है. सोनिया गांधी और शरद पवार से इसे लेकर माफी मांगने की मांग की गई है. भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके कांग्रेस और राष्ट्रवादी कांग्रेस पर निशाना साधा.

इस संबंध में संबित पात्रा ने कहा कि समझौता एक्सप्रेस विस्फोट के वक्त कांग्रेस ने हिंदू आतंकवाद शब्द का इस्तेमाल किया था. 1949 में कांग्रेस ने अयोध्या में राम मंदिर का विरोध किया था. तब से आज राम मंदिर नहीं बना. कांग्रेस ने हमेशा हिंदू विरोध का काम किया है. मुस्लिमों को अपने साथ बनाए रखने के लिए कांग्रेस ने हिंदूओं का अपमान किया है. मुरिलमों का राजनीतिक के लिए इस्तेमाल किया. इसलिए कांग्रेस का नाम खछउ नहीं बल्कि चङउ रखना चाहिए. मुस्लिम लीग कांग्रेस नाम रखना चाहिए.
हिंदूओं के खिलाफ वातावरण को गर्म किया जा रहा है. लोकतांत्रिक देश में एक धर्म को टारगेट किया जा रहा है. सोनिया को इस बयान के लिए माफी मांगना चाहिए जिसमें उन्होंने कहा कि मुस्लिमों के लिए राजनीति में आई हूं और जीतेंद्र आव्हाड़ ने हिंदूओं को लेकर जो कहा उसके लिए शरद पवार को माफी मांगनी चाहिए.

11 जुलाई 2018 में राहुल गांधी ने स्पष्ट रूप से कहा था कि कांग्रेस मुस्लिमों की पार्टी है. 9 जुलाई 2018 को कांग्रेस की तरफ से कहा गया कि देश के हर जिले में शरिया कोर्ट स्थापित होना चाहिए. 17 मई 2017 को युवक कांग्रेस के नेताओं ने केरल में गायों को मारकर उसका मांस सार्वजनिक रूप से खाता हुआ दिखाया था. 2016-17 में राहुल गांधी जेएनयू गए और वहां देश विरोधी नारे लगाए गए.

राष्ट्रवादी नेता जीतेंद्र आव्हाड़ ने कहा है कि मुस्लिम उनके पूर्वजों को कहा दफनाया गया यह मुस्लिम बता सकते हैं लेकिन हिंदू पूर्वजों का अंतिम संस्कार कहा हुआ ये हिंदू नहीं बता सकते हैं. यह इतना अपमानजनक है. यह राजनीति का कौन सा रूप है? यह सवाल भाजपा की तरफ से संबित पात्रा ने किया है.

वेब से