505 करोड़ से बढ़ा पिम्परी चिंचवड़ मनपा का बजट

पिम्परी : पुणे समाचार

स्थगन के दौर से गुजरते हुए 7वीं सभा में अंततः 5767 करोड़ रुपए का बजट मंजूर

लगातार छः बार स्थगन के दौर से गुजरने के बाद मंगलवार को 7वीं सभा में आखिरकार पिम्परी चिंचवड़ मनपा के बजट को मंजूरी मिल गई। 1112 में से 981 उपसुझावों को मंजूरी देते हुए कुल 5767 करोड़ रुपए के बजट को मंजूरी दी गई। यह पहला मौका है जब मनपा के बजट में 500 करोड़ से भी ज्यादा रुपये की बढ़ोतरी की गई है। सभा की अध्यक्षता महापौर नितिन कालजे ने की।

सन 2018-2019 इस नए वित्त वर्ष हेतु 5235.26 करोड़ रुपए का बजट पेश किया गया था। स्थायी समिति ने उपसुझाव के साथ इसमें बढ़ोतरी कर कुल 5262.30 करोड़ रुपए का बजट अंतिम मान्यता हेतु सर्व साधारण सभा में पेश किया गया। 26 फरवरी को बजट पेश करने के बाद बजट विशेष सभा स्थगित की गई। 20 मार्च की सभा में बजट पर आठ घंटों की मैराथन चर्चा के बाद 722 करोड़ पांच लाख रुपए के 1049 उपसुझाव पेश किये गए और सभा स्थगित कर दी गई। आज समेत दो सभाओं में ब्रेक के साथ बजट विशेष सभा कुल छह बार स्थगित की गई। इसके बाद 7वीं सभा में अंतिम बजट को मंजूरी दी गई।

मैराथन चर्चा के बाद नए बजट में 1112 नए कामों के कुल चार उपसुझाव पेश किए गए। इसमें से 995 उपसुझाव मंजूर किये गए और 14 नामंजूर किये गए। स्थायी समिति की निर्वतमान अध्यक्षा सीमा सावले ने 995 में से 981 उपसुझाव स्वीकार किये। 995 उपसूझावों के जरिए बजट में 545 करोड़ रुपए की मांग की गई थी। इसमें से 505 करोड़ रुपए के उपसुझाव स्वीकार किये गए। शहर विकास रूपरेखा (सिटी डेवलपमेंट प्लान) के लिये मूल बजट में आबंटित 110 करोड़ रुपए में से 54 करोड़ 19 लाख रुपए का आबंटन इन उपसुझावों के लिए वर्ग किये गये। वहीँ इस ढलते वित्त वर्ष के बजट से 441 करोड़ 31 लाख रुपए अखर्चित रह जाएंगे, यह तय माना गया है। 505 करोड़ 31 लाख रुपए की बढ़ोतरी के साथ कुल 5767 करोड़ रुपए का अंतिम बजट मंजूर किया गया।