अब VIP सुरक्षा में नहीं मिलेगी ब्लैक कमांडो, सरकार ने हटाया एनएसजी कवर 

नई दिल्ली, 13 जनवरी : सरकार वीआईपी सुरक्षा के मुद्दे पर बड़ा निर्णय लिया है।  अब सरकार सभी वीआईपी लोगों की एनएसजी सुरक्षा हटाने का फैसला किया है।  लोगों को सुरक्षा देने के काम से अब राष्ट्रीय सुरक्षा गार्ड को दूर रखा जाएगा।  इससे पहले सरकार ने सोनिया गांधी और राहुल गांधी की एसपीजी सुरक्षा हटाने के साथ कई बड़े नेताओ की सुरक्षा कम कर दी थी.

13 वीआईपी को एनएसजी सुरक्षा

फ़िलहाल देश में 13 लोगों को एनएसजी सुरक्षा मिली हुई है. इस तरह की सुरक्षा में दो दर्जन कमांडो तैनात रहते है. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और योगी आदित्यनाथ के साथ यूपी की पूर्व सीएम मायावती, मुलायम सिंह यादव, चंद्रबाबू नायडू, प्रकाश सिंह बदल, फारुख अब्दुल्ला को भी यह सुरक्षा मिली हुई है. आसाम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल और पूर्व उप प्रधानमंत्री लाल कृष्ण आडवाणी को भी एनएसजी सुरक्षा मिली हुई है.
नेताओं की सुरक्षा देश पर बोझ

गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया कि इस फैसले के बाद एनएसजी के करीब 450 कमांडोज वीआईपी को सुरक्षा देने से मुक्त हो जाएंगे और उन्हें फाॅर्स के मूल काम पर लगाया जाएगा।
इन कमांडोज को देश में मौजूद पांच ठिकानों पर लगाया जाएगा। ताकि जरुरत पड़ने पर इनकी सेवाएं ली जा सके. वीआईपी लोगों की सुरक्षा की जिम्मेदारी सीआईएसएफ और सीआरपीएफ को दी जा सकती है.
हाल ही में सीआरपीएफ को ऐसे पांच लोगों की सुरक्षा में लगाया गया है जिन्हे पहले एसपीजी सुरक्षा मिली हुई थी. इनमे पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और उनकी पत्नी, प्रियंका गांधी कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, राहुल गांधी का नाम शामिल है.