Pune Police Mcoca Action | मुंढवा परिसर में दहशत पैदा करने वाले सुमित उर्फ लखन गौड गिरोह पर लगा मकोंका ! पुलिस आयुक्त द्वारा अब तक 112 संगठित आपराधिक गिरोह पर MCOCA

पुणे : पुणेसमाचार ऑनलाइन – 8 जनवरी झगड़ा छुड़ाने गए युवक को पिस्तौल के दूसरे साइड से सिर पर मारकर उस पर पिस्तौल लगाकर जान से मारने की धमकी देकर परिसर में दहशत पैदा करने वाले सुमित उर्फ लखन गौड व उसके अन्य 2 साथियों पर पुलिस आयुक्त ने मकोका कानून के तहत कार्रवाई की है. पुलिस आयुक्त रितेश कुमार ने अब तक 112 संगठित आपराधिक गिरोह पर मकोका कानून के तहत कार्रवाई की है.

गिरोह के सरगना सुमित उर्फ लखन रवींद्र गौड (उम्र- 32, नि. वडगांव शेरी, पुणे), सिद्धार्थ देवीदास शावलकर (उम्र-21, नि. केशवनगर), राहुल सोमनाथ धावरे (उम्र-23, नि. वडगांव शेरी, पुणे) के खिलाफ मुंढवा पुलिस स्टेशन में आइपीसी की धारा 307, 323, 504, 506, 34 के साथ आर्म्स एक्ट, महाराष्ट्र पुलिस कानून, क्रिमिनल लॉ अमेंडमेंट एक्ट के अनुसार केस दर्ज कर शावलकर व धावरे को गिरफ्तार कर लिया है. जबकि मुख्य आरोपी लखन गौड फरार है. पुलिस उसकी तलाश कर रही है. यह घटना केशवनगर में 5 नवंबर 2023 की रात साढ़े सात बजे हुई है. इस मामले में केशवनगर के 21 वर्षीय युवक ने शिकायत दर्ज कराई है.

शिकायतकर्ता केशवनगर में दोस्त से मिलने के लिए गया था. इसी दौरान उसकी मौखिक पहचान वाला युवक प्रवीण सिंह से आरोपी मारपीट कर रहा था. शिकायतकर्ता उनका झगड़ा छुड़ाने के लिए गया. राहुल धावरे ने गला दबाकरउसे धक्का दे दिया. जबकि सुमित गौड अपने कमर में लगा पिस्तौल निकालकर उसकी उल्टी तरफ से शिकायतकर्ता के सिर पर मारकर जख्मी कर दिया. साथ ही अन्य आरोपियों ने लात घूसों से मारपीट की. सुमित गौड शिकायतकर्ता पर पिस्तौल तानकर जान से मारने की धमकी देकर परिसर में दहशत पैदा की.

आरोपी सुमित उर्फ लखन गौड पुलिस रिकॉर्ड में अपराधी है. उसके खिलाफ विमानतल, चंदनगर, मुंढवा पुलिस स्टेशन में गंभीर किस्म के मामले दर्ज है. आरोपी ने संगठित आपराधिक गिरोह तैयार कर हत्या के प्रयास, हथियार रखने, जख्मी करने, बदले की भावना, गैरकानूनी रुप से भीड़ जमा करने, नुकसान ककर दहशत पैदा करने जैसे अपराध किए है. आरोपियों के खिलाफ प्रतिबंधात्मक कार्रवाई की गई थी. लेकिन उन्होंने इस तरह के अपराध बार बार किए.

मुंढवा पुलिस स्टेशन में दर्ज मामले में महाराष्ट्र संगठित अपराध नियंत्रण कानून 1999 की धारा 3 (1)(ii),
3(2), 3(4) को शामिल करने का प्रस्ताव अपर पुलिस आयुक्त पूर्व प्रादेशिक विभाग रंजनकुमार शर्मा को भेजा गया था. इस प्रस्ताव की जांच कर अपर पुलिस आयुक्त ने मकोका की धारा जोड़ने की मंजूरी दी. इस मामले की जांच हडपसर विभाग के सहायक पुलिस आयुक्त अश्विनी राख कर रही है.

यह कार्रवाई पुलिस आयुक्त रितेश कुमार, अपर पुलिस आयुक्त क्राइम (सह पुलिस आयुक्त अतिरिक्त कार्यभार) रामनाथ पोकले, अपर पुलिस आयुक्त पूर्व प्रादेशिक विभाग रंजनकुमार शर्मा, पुलिस उपायुक्त जोन 5 आर राजा, सहायक पुलिस आयुक्त अश्विनी राख के मार्गदर्शन में वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक विष्णु ताम्हाणे, पुलिस निरीक्षक क्राइम सुनीता रोकडे, जांच टीम के सहायक पुलिस निरीक्षक सदाशिव गायकवाड, सहायक पुलिस फौजदार अभय काले, पुलिस कांस्टेबल हेमंत झुरुंगे, ऋषिकेश टिलेकर, रवींद्र देवढे, वैभव मोरे की टीम ने की है.